वेब होस्टिंग क्या है? और कहा से खरीदे (What is Web Hosting in Hindi)

Share this

Web Hosting: अगर आप Blog या Website बनाने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको यह जरूर पता होना चाहिए की वेब होस्टिंग क्या है (Web Hosting in Hindi)? इस लिए इस पोस्ट में आपको वेब होस्टिंग के बारे में पूरी जानकारी मिलेगी।

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now

जैसे- वेब होस्टिंग क्या है हिंदी? वेब होस्टिंग कितने प्रकार की होती है? और वेब होस्टिंग कहा से खरीदे?

Table of Contents

होस्टिंग क्या है? (What is Hosting in Hindi)

आज कल एक हर किसी के पास कोई ना कोई ब्लॉग या वेबसाइट है। ऐसे में आपको होस्टिंग के बारे में जानकारी होना बहोत जरूरी है। जिस प्रकार किसी भी वेबसाइट के लिए डोमेन जरुरी होता है, उसी तहर वेबसाइट के लिए होस्टिंग बहुत ही जरुरी होती है।

Hosting के बिना वेबसाइट को Google पर लाना बहुत मुश्किल है। Internet में Hosting की वजह से Website को जगह मिलती है, और Domain से पहचान मिलती है। इस लिए होस्टिंग और डोमेन किसी भी वेबसाइट के लिए बहुत जरूरी होते है।

होस्टिंग पर ही किसी भी वेबसाइट को होस्ट किया जाता है, हमारी वेबसाइट डिजिटल डाटा होस्टिंग में रहता है।

वेब होस्टिंग क्या है हिंदी? (Web Hosting in Hindi)

Internet मे Blog या Website के लिए एक जगह (Space) की जरुरत होती है, जिसे हम Internet की भाषा मे वेब होस्टिंग (Web Hosting) कहते है। जब हम Hosting खरीदते है, तो हमें Internet मे एक जगह (Space) मिलती है।

वेब होस्टिंग पर वेबसाइट का सारा डाटा स्टोर होता है, जैसे की टेक्स्ट, इमेजेज, डाक्यूमेंट्स और वीडियो आदि।

अगर सरल भाषा में बताऊ तो, मान लीजिये आप घर (Website) बनाना चाहते है, तो उसके लिए आपको जमीन (Web Hosting) की जरुरत पड़ेगी। जिस पर आपका घर बनेगा और अब आप उसमे घर का सामान (Article, Images और Videos) रखोगे, ताकि कोई मेहमान (Traffic) आए तो उनको आपका घर पसंद आए।

आप समझ गए होंगे कि जिस प्रकार जमींन के ऊपर पूरा घर टिका हुआ है उसी तरह वेब होस्टिंग के ऊपर आपकी वेबसाइट और सारा डेटा स्टोर रहता है। अब आप समझ गए होंगे की वेब होस्टिंग क्या है? और वेबसाइट के लिए वेब होस्टिंग की जरुरत क्यों पड़ती है

वेब होस्टिंग के प्रकार? (Types of Web Hosting)

अब जानते वेब होस्टिंग कितने प्रकार की होती है। (Types of Web Hosting) वैसे तो तो वेब होस्टिंग कई प्रकार की होती है। लेकिन हम प्रमुख 4 प्रकार की वेब होस्टिंग के बारे में जानेंगे जोकि सबसे अधिक उपयोग की जाती है।

  1. शेयर्ड होस्टिंग (Shared Hosting)
  2. क्लाउड होस्टिंग (Cloud Hosting)
  3. डेडिकेटेड होस्टिंग (Dedicated Hosting)
  4. वर्चुअल प्राइवेट सर्वर ( VPS Hosting)

1. शेयर्ड होस्टिंग (Shared Hosting)

अब आइये शेयर्ड होस्टिंग (Shared Hosting) के बारे जानते है, आप सोच रहे होंगे कि इसका नाम शेयर्ड होस्टिंग क्यों पड़ा या फिर इसको शेयर्ड होस्टिंग क्यों कहते है। जैसा की शेयर्ड (Shared) का मतलब होता है किसी के साथ बाँटना, उसी तरह शेयर्ड होस्टिंग का काम इसके नाम जैसा ही है।

Shared Web Hosting में एक ही Server होता है, जहाँ पर हजारो Websites की Files को एक साथ एक ही Computer Server में रखा जाता है। इसी लिए इसको शेयर्ड होस्टिंग (Shared Hosting) कहते है।

Shared Web Hosting for Beginners: अगर आपने नया नया वेबसाइट बनाया है, तो आपको Shared Web hosting यूज़ करना चाहिए क्योंकि यह सस्ती होती है।

इसीलिए इसका उपयोग ज्यादा किया जाता है, पर आपकी वेबसाइट जितनी पुरानी होती जाएगी आपकी वेबसाइट पर ट्रैफिक बढ़ता जाएगा और जब ट्रैफिक बढ़ जाएगा तो आपको परेशानी होगी। पर टेंशन की बात नहीं है आप जब चाहें होस्टिंग चेंज कर सकते हैं।

Shared Web Hosting के फायदे

  • Shared web hosting को Use करना और इसका Setup करना बहुत आसान है।
  • Beginners और New Website के लिए बढ़िया Options है।
  • इसका कीमत बहुत कम है जिससे इस होस्टिंग को खरीदना बहुत आसान है।

Shared Web Hosting के नुकसान

  • अगर आपका वेबसाइट पोपुलर हो जाए तो तब ये होस्टिंग वेबसाइट की लोडिंग स्पीड को धीमा कर देता है।
  • हाई ट्रैफिक (High traffic ) को हैंडल नहीं कर सकता इसलिए ये नए ब्लॉगर के लिए ठीक माना जाता है क्यों की न्यू ब्लॉग मे कम ट्रैफिक होता है। जब आपके ब्लॉग या वेबसाइट मे ज्यादा ट्रैफिक आने लगे तब आप चाहे तो बाद मे शेयर्ड होस्टिंग को चेंज कर सकते है।

2. क्लाउड होस्टिंग (Cloud Hosting)

ये सबसे ज्यादा भरोसे मंद माना जाता है क्यों की इसमे बहोत सारे Server एक साथ होते है एक Cloud की तराह जिससे ये फायदा होता है की Website Down होने के बहोत कम यानि ना के बराबर होता है और High Traffic को आसानी से हैंडल किया जा सकता है।

Cloud Web Hosting के फायदे

  • Server Down होने के बहोत कम Chances होते है।
  • High Traffic को आसानी से हैंडल कर लेता है।

Cloud Web Hosting के नुकशान

  • नुस्कान ये है की क्लाउड वेबसाइट को रूट एक्सेस नहीं देता।
  • ये होस्टिंग भी थोड़ी मेहेंगी होती है।

3. डेडिकेटेड होस्टिंग (Dedicated Hosting)

जैसा कि हमने बताया था कि Shared Hosting में एक ही Server होता है उसी पर सभी का Data Store होता है। वही Dedicated Web Hosting Shared Web Hosting का बिल्कुल उल्टा काम है।

इस पर आपको बहोत ज्यादा जगह (Spece) मिलती है। इस होस्टिंग पर चाहे जितना भी Traffic आ जाए Dedicated Web Hosting को कोई फर्क नही पड़ेगा।

उदाहरण- Dedicated Web Hosting को आप एक बडा घर या महल कह सकते है और इस पूरे महल के मालिक आप खुद है। यहा आपकी मर्जी चलेगी ये पूरा का पूरा Server सिर्फ आपका होगा। अब आप समझ ही गये होंगे अगर हमने इसे एक महल के बराबर बोला है तो इस Dedicated Web Hosting की कीमत भी बहोत ज्यादा होगी।

डेडिकेटेड होस्टिंग (Dedicated Hosting) का Use बहोत कम लोग करते है क्योकि ये बहोत महँगा पड़ता है। इस लिए इसका उपयोग वो लोग करते है जिनकी वेबसाइट पर Unlimited traffic आता है।

जैसे- Amazon, Flipkart, Snapdeal जैसी Websites पर Dedicated Web Hosting का ही use किया जाता है।

Dedicated Hosting के फायदे

  • आपको इस Hosting में Server पर ज्यादा Control और Flexibility मिलती है।
  • सभी Hostings के मुकाबले आपको इसमे Security सबसे अच्छी मिलेगी।
  • इसमे आपको Full Root/Administrativ Access दिया जाता है।

Dedicated Hosting के नुकसान

  • Dedicated Hosting बाकी सभी Hosting से महँगा है।
  • इस Hosting को Control करने के लिए आपको Technical Knowledge होना चाहिए।
  • आप अपनी Probelms को खुद Solve नही कर पाएंगे इसके लिए आपको एक Technicians को Hire करना पड़ेगा।

4. वर्चुअल प्राइवेट सर्वर ( VPS Hosting)

VPS Hosting का फुल फॉर्म वर्चुअल प्राइवेट सर्वर (Virtual Private Server) होता है।

VPS Web Hosting को हम रिजर्वेशन भी बोल सकते हैं जैसे कि मान लीजिए आप किसी होटल में जाते हैं अपना रूम बुक करते हैं तो उस रूम पर सिर्फ आपका हक रहता है और दूसरे लोगों से आपको कोई मतलब नहीं रहता उस रूम के सारी चीजें आपके लिए होती हैं।

इसी तरह VPS Web Hosting को लेने पर जो Web Server आपको मिलेगा उस पर सिर्फ आपका हक रहेगा उस पर सिर्फ आपका ब्लॉग या वेबसाइट रहेगी और यह बिलकुल सुरछित रहता है इसलिए इस पर चाहे जितना भी ट्रैफिक आ जाए आपको कोई प्रॉब्लम नहीं होगी।

VPS Web Hosting के फायदे

  • ये होस्टिंग बहोत सिक्योर (Secure) होता है।
  • अच्छा परफॉरमेंस देता है।
  • शेयर्ड होस्टिंग से ज्यादा ट्रैफिक को हैंडल कर सकता है।

VPS Web Hosting के नुकशान

  • शेयर्ड होस्टिंग से थोडा ज्यादा मेहेंगा होता है।

वेब होस्टिंग काम कैसे करती है (How Hosting works)

मान लीजिए किसी व्यक्ति को कोई जानकारी चाहिए, तो अक्सर लोग Internet की तरफ ही जाते है क्योंकि आपको घर बैठे सारि जानकारी मिल जाती है। तो आप अपने Browser में Google Open करते है और Search कर लेते है।

जैसे ही कोई व्यक्ति Internet पर कुछ जानकारी पाने के लिए Google पर Search करता है। तो Internet उसे Website के Server के साथ जोड़ देता है जिस से की उस व्यक्ति को जो भी जानकारी चाहिए तो वो आपके Website से ले सकता है।

या तो सीधे आपका Domain Name भी Search करेगा तो Internet उसे आपके Web Server से जोड़ देगा जहा पर आपका सारा Data/Files रखा हुआ है।

उदाहरण- मान लीजिए आपने Google पर मेरा Domain Name Search किया learnwithsaurabh.com तो Internet आपको मेरे Web Server से जोड़ देगा जहा पर मेरी Website की सारी Files रखी हुई है, User को जो भी जानकारी चाहिए तो Post और Pages के रूप में पढ़ या देख सकते है।

Web Files Internet पर जिस जगह पर Save रहती है, उसे ही Web Hosting कहते है। तो आप यह भी समझ गए होंगे की Web Hosting काम कैसे करता है

होस्टिंग कहा से खरीदे (Where to buy hosting)

अभी तक आपने जान ही लिया होगा Web Hosting क्या है। कितने प्रकार का होता है। तो आइए अब ये भी जान लेते है कि Web Hosting खरीद सकते है।

वैसे तो दुनिया भर में बहोत सारी Web Hosting Provider Companys है। जो एक से बढ़कर एक Service Provide करती है। आपको यह ध्यान देना है कि, अगर आप India से है और आपके Website पर Visitors भी ज्यादा तर India से ही है

तो आपको India से ही Hosting खरीदना चाहिए। क्योंकि Hosting आपकी Country से जितना दूर होगी तो Website को Access करने में उतना ही Time लगेगा।

अगर आप Indian Web Hosting Provider Company से Web Hosting खरीदते है, तो आप ATM card (Debit card), PayTm, Google Pay या फिर NetBanking से Hosting खरीदने के लिए Payment कर सकते है। और आसानी से अपने Domain Name के साथ Setup कर सकते है।

अगर मैं अपनी बात बताऊं तो मैं Hostinger की Web Hosting Use करता हूँ मुझे इनकी सर्विस बहुत अच्छी लगती है। Hostinger का Setup करना भी बहुत आसान है, तो मैं आपको सलाह दूँगा की आप भी Hostinger Web Hosting का यूज़ कर सकते है।

मैं आपको कुछ Trusted Hosting Provider Company’s Name बता रहा हु जहा से आप आसानी से Web Hosting खरीद सकते है।

  1. Hostgator India
  2. Hostinger
  3. Godaddy
  4. BlueHost
  5. BigRock

वेब होस्टिंग खरीदते समय क्या ध्यान में रखे

Web Hosting खरीदते समय इन बातों का ध्यान रखना चाहिए। ऊपर हमने आपको हम वेब होस्टिंग प्रोवाइडर कंपनी के नाम बता दिया है, लेकिन जब आप वहा से वेब होस्टिंग ख़रीदे तो आपको बहुत सारे ऑप्शन दिखाई देंगे।

ऐसे में आपको आपको Web Hosting खरीदते समय किन किन बातों का ध्यान रखना पड़ेगा, वो आप नीचे विस्तार में पढ़ सकते है-

  • Disk Space
  • Bandwidth
  • UpTime
  • Customer Service

1. Disk Space

जब आप Hosting खरीदेगे तो आपको Disk Space का ध्यान रखना है। Disk Spece क्या है? ये समझ लीजिए जैसे आपके Computer या Laptop में Storage होता है न 500GB या फिर 1TB उसी तरह Hosting में भी Storage होता है। आप को Unlimited Space वाला Web Hosting खरीदना चाहिए जिससे कि Disk Spece Full होंने की Problem न हो।

2. Bandwidth

1 Second में आपकी Website से कितना Data Access कर सकते है, उसे हम Bandwidth कहते है। मान लीजिये Visitor आपकी Website को Access कर रहा है, तो Server आपके Website के Data को Visitor तक पहोचएगा। तो अगर आपका BandWidth कम है और बहोत ज्यादा लोग Data Access कर रहे है तो आपकी Website Down हो जाएगी।

3. UpTime

आपकी Website जितना Time Online या Available रहती है, उसे ही UpTime कहते है। कभी कभी आपने देखा होगा कोई Website Open नही होती किसी Problem की वजह से Website down हो जाता है। उसे Down Time कहते है। वैसे तो आजकल सभी Web Hosting Compnay 99.99% UpTime की Guarantee देती है।

4. Customer Service

आपको सभी Web Hosting Compnay कहेगी की वो 24×7 Customer Service Provide करेगे लेकिन ऐसा नही है। सच्चाई तो ये है कि ये सब झूठ बोलते है। मैं ऐसा नही कह रहा हु की ये लोग आपकी Help नही करेंगे, पर जो ये लोग बोलते है की हम 24 घंटे Customer service provide करते है ये झूठ है।

Best Hosting Service Provider List in India

मैं आपको Trusted Best Hosting Service Provider List in India के नाम बता रहा हु जहा से आप आसानी से Web Hosting खरीद सकते है-

SL. NumberHosting Service Provider
1होस्टगेटर इंडिया (Hostgator India)
2होस्टिंगर (Hostinger)
3गोडैडी (Godaddy)
4ब्लूहोस्ट (BlueHost)
5बिगरॉक (BigRock)
6साइट ग्राउंड (SiteGround)
Best Hosting Service Provider List

निष्कर्ष (Conclusion)

आपको यह पोस्ट वेब होस्टिंग क्या है? (Web Hosting in Hindi) कैसी लगी हमें कमेंट्स में जरूर बताए, मैं उम्मीद करता हु की आपको वेब होस्टिंग से सम्बंधित सभी जानकारी मिल गई होगी जैसे की वेबसाइट क्या है, वेबसाइट के प्रकार, वेब होस्टिंग कहा से ख़रीदे यह सब आपको समझ में आ गया होगा। अगर आपको अभी भी कोई समस्या है तो कमेंट में पूछ सकते है, और हमें सलाह भी दे सकते है।

FAQs of Web Hosting

वेब होस्टिंग क्या है हिंदी?

Internet मे Blog या Website के लिए एक जगह (Space) की जरुरत होती है, जिसे हम Internet की भाषा मे वेब होस्टिंग (Web Hosting) कहते है। जब हम Hosting खरीदते है, तो हमें Internet मे एक जगह (Space) मिलती है। जहां पर वेबसाइट का सारा डाटा स्टोर होता है, जैसे की टेक्स्ट, इमेजेज, डाक्यूमेंट्स और वीडियो आदि।

वेब होस्टिंग कितने प्रकार के होते हैं?

वेब होस्टिंग कितने प्रकार की होती है। (Types of Web Hosting) वैसे तो तो वेब होस्टिंग कई प्रकार की होती है। लेकिन हम प्रमुख 4 प्रकार की वेब होस्टिंग के बारे में जानेंगे जोकि सबसे अधिक उपयोग की जाती है।

वेब होस्टिंग कहा से खरीदे?

आइए अब ये भी जान लेते है कि Web Hosting खरीद सकते है। वैसे तो दुनिया भर में बहोत सारी Web Hosting Provider Companys है। जो एक से बढ़कर एक Service Provide करती है। आपको यह ध्यान देना है कि, अगर आप India से है और आपके Website पर Visitors भी ज्यादा तर India से ही है तो आपको Indian Companys से ही Hosting खरीदना चाहिए। क्योंकि Hosting आपकी Country से जितना दूर होगी तो Website को Access करने में उतना ही Time लगेगा।

Share this

Leave a Comment